Monday, March 20, 2017

गमपुर की महिलाओं की बहादुरी

चौदह साल की आदिवासी लड़की के साथ पुलिस वालों द्वारा बलात्कार करने के बाद गोली मारने के मामले में,
जांच की मांग कर रही जिन आदिवासी महिलाओं को पुलिस वालों बुरी तरह पीटा है,
उन महिलाओं ने बताया है कि हमें मारते हुए पुलिस वाले बोल रहे थे कि तुम लोग जाकर मानवाधिकार आयोग को अपनी जांघें दिखा कर पुलिस से पिटाई की बहुत शिकायत करती हो,
इस दफा हम तुम्हें ऐसी जगहा मारेंगे कि तुम अपनी चोट किसी को दिखा भी नहीं सकोगी,
एक महिला की योनी पर पुलिस वाले ने डन्डा मारते हुए बोला,
इसके बाद पुलिस वालों ने महिलाओं के स्तनों और नितम्बों पर निशाना लगा कर डन्डों और बन्दूक के बटों से बुरी तरह मारा,
सोनी सोरी को यह सब बताते हुए घायल आदिवासी महिलाओं के चेहरे पर शर्म नहीं क्रोध था,
महिलाओं ने सोनी से कहा दीदी आपके साथ जो थाने में हुआ उसके बाद आप शर्म से घर पर नहीं बैठीं बल्कि आपने दुनिया को वह सब बताया,
उससे बस्तर की आदिवासी महिलाओं में बहुत हिम्मत आयी है,
महिलाओं ने कहा हम पर पुलिस के अत्याचार के फोटो सारी दुनिया मे दिखाइये,
अगर दुनिया को शर्म नहीं आयी तो इससे कम से कम बस्तर की हमारी आदिवासी महिलाओं में हिम्मत तो आयेगी,
मुझे यह सब सुनते समय महसूस हो रहा था कि बस्तर में कम्पनियों की सरकार और आदिवासियों के बीच की इस लड़ाई में जीत बस्तर की महिलाओं की ही होगी,
आप चाहें तो यह मुझसे लिखवा कर ले लीजिये,

No comments:

Post a Comment