Monday, March 20, 2017

हिडमें केस के गवाह की पिटाई

आपको हिड़मे याद है ?
वही लड़की जिसके साथ पुलिस वालों ने सामूहिक बलात्कार कर के गोली मार दी थी,
मामला कोर्ट में ले जाया गया,
पड़ोस के गांव गोरका के पटेल भीमा ने हिड़मे को सिपाहियों द्वारा पकड़ कर ले जाते देखा था ,
बाद में जंगल से गोली चलाने और मृत हिड़मे को जंगल से उठा कर ले जाते देखा था,
भीमा ने यह सब अदालत को बता दिया,
अपराधी बलात्कारी थानेदार ने भीमा को थाने बुलवाया,
पहले थानेदार ने भीमा को अपना अदालत का बयान बदलने के लिये कहा,
जब भीमा नहीं माना तो थानेदार ने संतोष और एक अन्य सिपाही से कहा इसे मारो,
इन दोनों सिपाहियो ने गवाह भीमा की पिटाई करी और कहा कि अब अगर अदालत में बयान नहीं बदला तो तेरे गांव में आकर तेरे टुकड़े टुकड़े कर देंगे,
आज भीमा दन्तेवाड़ा जिला अदालत में पेश हुआ,
और जिला जज के सामने पुलिस द्वारा खुद पर हुए हमले की जानकारी दी,
क्या यह सब पढ़ते हुए आपको ऐसा नहीं लग रहा कि किसी गुन्डा गैंग के अपराधों का सस्ता उपन्यास पढ़ रहे हों,
लेकिन यह हमारी सरकार के कारनामे हैं,
इस सरकार का काम महिलाओं के सम्मान और जीवन की रक्षा करना और लोगों को इन्साफ दिलाने में मदद करने का है,
लेकिन यहाँ की भाजपा सरकार महिलाओं से बलात्कार करवाती है,
हत्यायें करवाती है,
और न्याय मांगने वालों पर हमला करती है,
यह सरकार सत्ता में बने रहने का संवैधानिक हक खो चुकी है,

No comments:

Post a Comment