Monday, March 20, 2017

सांगटेडा फ्लाई ओवर

साइकिल यात्रा में आज कोटपुतली तहसील के गांव संगटेडा पहुंचा,
यहाँ गांव वाले 34 दिन से धरने पर बैठे हैं,
गांव वालों की मांग जायज़ है,
गांव के बीचों बीच से हाईवे गुज़रता है,
गांव वालों के खेत और घर हाईवे के दोनों तरफ हैं,
गांव से गुज़रने वाले हाइवे की यह जगह किलर प्वाइंट मानी जाती है,
इस जगह सड़क दुर्घटना में 80 लोग मारे जा चुके हैं,
5OO से ज़्यादा लोग विकलांग हो चुके हैं,
गांव के लोग मांग कर रहे हैं कि सरकार यहाँ एक फ्लाई ओवर बना दे ताकि गाड़ियां ऊपर से गुज़र जाएँ और गांव के लोग नीचे से अपने पशुओं या ट्रैक्टर के साथ खेतों तक आ जा सकें,
लेकिन भारत में सरकारों में नम्रता नहीं है,
भारत में सरकारें कभी भी जनता की मांग पर ध्यान नहीं देती,
सरकार में बैठे लोग जनता को अपनी ताकत दिखाने के लिये उनका अपमान करते हैं,
इस गांव के लोग बताते हैं हमारे गांव में फ्लाई ओवर बनाया जाना था,
उसके लिये बजट भी पारित हो चुका था,
सड़क किनारे बने गांव वालों के घर तो तोड़ डाले गये,
लेकिन फिर पता नहीं क्यों फ्लाई ओवर नहीं बना,
गांव वालों को शक है कि पैसा खर्चा दिखा दिया गया लेकिन फ्लाई ओवर नहीं बनाया गया,
हार कर गांव वालों ने करो या मरो का फैसला किया है,
मुझे समझ में नहीं आता हमारी सरकार जनता के साथ हमेशा दुश्मनों जैसा व्यवहार क्यों करती है,
सिक्स लेन हाइवे व्यापारियों के लिये बड़े ट्रक दौड़ने के लिये बना दिये,
लेकिन रास्ते में रहने वाले किसानों के बारे में सोचने में सरकार को मौत आती है,
आखिर जनता की दुश्मन सत्ता का दौर जनता कब तक सहन करेगी ?

No comments:

Post a Comment