Wednesday, October 30, 2013

हॉलोकास्ट



साम्प्रदायिकता और मूर्खता कितनी खतरनाक हो सकती है , इसका एक उदहारण पिछली शताब्दी में हुए जनसंहार से देखा जा सकता है।

हिटलर ने एक करोड़ से भी  ज़यादा अपने ही देश के निर्दोष लोगों का क़त्ल करवाया। 

हिटलर ने कत्लों का जो सिलसिला चलाया था उसे हॉलोकास्ट का नाम दिया गया था जिसका अर्थ होता है सेक्रीफाइस बाय फायर ,अर्थात ''अग्नि में आहुति''   . 

चुनाव जीतने के बाद हिटलर ने अपने ही देश के यहूदियों , जिप्सी आदिवासियों , समलैंगिकों और अल्पसंख्यक ईसाई समूह के सदस्यों की हत्याएं करनी शुरू कर दीं। 

ये हत्याकांड सन उन्नीस सौ तेंतीस से उन्नीस सौ पैंतालीस तक चलता रहा। 

इस जनसंहार को हिटलर की  नाज़ी पार्टी के लोग ''अंतिम उपाय '' के नाम से बुलाते थे। 

भारत में भी इस खूनी हिटलर को अपना आदर्श मानने वाला धर्मांध समूह है , जिसका नाम ''राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ है।'' 

हिटलर की तरह ही ये संघी गिरोह  भी मानता है कि भारत के उच्च वर्णीय ब्राह्मण पुरुष ही भारत पर शाषन कर सकते हैं ।  इसके अलावा बाकी लोग अशुद्ध और हीन या मलेच्छ हैं।  

ये संघी  गिरोह भी इस इंतज़ार में है कि ये कब सत्ता पर पूरा कब्ज़ा हासिल करें ताकि सेना की मदद से अशुद्ध रक्त वाले करोड़ों लोगों की हत्या करी जा सके। 

अब इस संघी गिरोह ने नरेंद्र मोदी को सत्ता प्राप्ति का औज़ार बनाया है। 

हिटलर ने जिस तरह नारा दिया था कि ये यहूदी हमारी नौकरियां खा रहे हैं , इसी तरह अब मोदी विकास के नारे के बहाने से सत्ता प्राप्ति की कोशिश में लगा हुआ है। 

लेकिन याद रखिये अवैज्ञानिक और क्रूर मानसिकता के साथ यदि सत्ता भी साथ में आ जाय तो बात कितनी खतरनाक हो सकती है ?


10 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति को आज की बुलेटिन डॉ. होमी जहाँगीर भाभा और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. lekin narendra modi toh pichdi jati se aata hai...
    communist ko bhi dekh lo sare ke sare achaarya , pandy dwivedi , trivedi hi milenge

    ReplyDelete
  3. Gand phati toh kya bola
    dabur ka hajmola
    samjhe communiston

    ReplyDelete
  4. Hum 2013 mein bhi hitlar ki baat kar rahey hai... aaj koi bhi sarkaar ye kaam nahi kar sakti. ye baat ye post likhney wala bhi jaanta hai par kuch logo ka sauk hi likhna hota hai..

    ReplyDelete
  5. tel lagao dabur ka
    naam mita do babur ka

    ReplyDelete
  6. Raam lala hum aayenge
    mandir bhavya banayenge

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wahan mandir banakar AasaRam Bapu ko invite karna mat bhoolna pyare... aur saath me apni behan ko bhi darshan kar diyo usi mandir ke... saala gaandu...

      Delete
  7. Abe of guru ghantal aadami Modi kahan se aata hai Aur kaunsi cast Ka hai wo to pata kar ke le.... Khachchar kahi ke!

    ReplyDelete